HPPR
|

हिमाचल में भारी बारिश से नौ मकान और आठ पशुशालाएं ध्वस्त

शिमला, 30 जुलाई : हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश से तबाही कम होने का नाम नहीं ले रही है। मैदानों से लेकर पहाड़ी क्षेत्रों तक बारिश लोगों पर आफत ढहा रही है। राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की रिपोर्ट के अनुसार बारिश से शनिवार को प्रदेश में नौ कच्चे-पक्के मकान और आठ पशुशालाएं ध्वस्त हो गईं। इनमें दो मकान पूरी तरह से तबाह हो गए, जबकि आठ मकानों को आंशिक नुकसान पहुंचा है।

File Photo

मंडी जिला में चार, हमीरपुर में दो, चंबा, सिरमौर और सोलन में एक-एक मकान क्षतिग्रस्त हुआ। हमीरपुर में तीन, कांगड़ा में दो, चंबा, सिरमौर व सोलन में एक-एक पशुशाला धराशायी हुई। बारिश की वजह से 25 सड़कें, 17 टांसफार्मर और 12 पेयजल परियोजनाएं भी बंद रहीं। कुल्लू जिला में सबसे ज्यादा 15 सड़कें, चंबा में तीन, सोलन व लाहौल-स्पीति में दो-दो, बिलासपुर, कांगड़ा, मंडी में एक-एक सड़क अवरुद्ध है। वहीं मंडी जिला में 15 और चंबा व कुल्लू जिला में एक-एक ट्रांसफार्मर बंद रहे। सिरमौर में नौ और चंबा में तीन पेयजल परियोजनाएं बंद रहीं।

इस बीच प्रदेश में आगामी दिनों में भी बारिश का क्रम जारी रहने की संभावना है। मौसम विभाग ने प्रदेश के मैदानी व मध्यम ऊंचाई वाले क्षेत्रों में तीन अगस्त तक बारिश का येलो अलर्ट जारी किया है। हालांकि चार व पांच अगस्त को बारिश में कमी आएगी। खराब मौसम के मद्देनजर लोगों को नदी-नालों से दूर रहने और यात्रा करते समय सावधानी बरतने की सलाह दी गई है।

बीते 24 घंटों के दौरान कोठी में सर्वाधिक 82 मिमी बारिश हुई। इसके अलावा नाहन में 73, कंडाघाट में 68, अघ्घर में 59, संगड़ाह में 58, कसौली में 56, राजगढ़ में 52, घमरूर में 47, शिमला में 40, हमीरपुर में 36, चोैपाल में 32, आरएल-1700 व उना में 31-31, मशोबरा में 29, भोरंज व उना में 28-28, भराड़ी में 27, जातन बैरेज व करसोग में 25-25, पांवटा साहिब में 24, गोहर में 23, नारकंडा में 22, अर्की व जोगेंद्रनगर में 21-21, बिलासपुर में 19, रेणुका व ठियोग में 18-18 मिमी बारिश हुई है।