HPPR
| | |

देवभूमि हिमाचल के आशीर्वाद व वीर भूमि की मिट्टी से महकेगा देश का “नया संसद भवन” 

बिलासपुर, 31 जुलाई : देश की राजधानी दिल्ली में बन रहे नए संसद भवन में देवभूमि व वीरभूमि की शक्तिपीठों, धार्मिक स्थलों व ऐतिहासिक धरोहरों की धरती की मिट्टी में इस्तेमाल में लायी जा रही है। ताकि देवी देवताओं का आशीर्वाद संसद भवन पर बना रहे।

इसी के चलते हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर जिला से भी तीन अलग-अलग स्थानों की मिट्टी नए संसद भवन के निर्माण के लिए भेजी गई है। इसमें देश के 52 शक्तिपीठों में शुमार माता नैना देवी के मंदिर परिसर की मिट्टी, ऋषि मार्कण्डेय की तपोस्थली से पहचान रखने वाले जुखाला के समीप ऋषि मार्कण्डेय मंदिर की मिट्टी सहित स्वतंत्रता सेनानियों व देश की रक्षा करते हुए शहीद हुए वीर जवानों की याद में झंडूता स्थित वीरभूमि राहियां में बनाये गए शहीद स्मारक की मिट्टी को भी नए संसद भवन के निर्माण के लिए भेजा गया है। 

इस बात की जानकारी देते हुए जिला भाषा अधिकारी रेवती सैनी ने कहा कि बिलासपुर की धरती देवभूमि व वीरभूमि है इसीलिए शक्तिपीठ श्री नैना देवी, ऋषि मुनियों की धरती मार्कण्डेय मंदिर व वीरभूमि राहियां स्थित शहीद स्मारक की मिट्टी नए संसद भवन के निर्माण के लिए भेजी गई है। इसके साथ ही तीनों ही स्थलों के इतिहास व महत्व की जानकारी भी मिट्टी के साथ भेजी गई है, ताकि इन जगहों के महत्व को पूरे देश जान सके।

रेवती सैनी ने कहा कि यह एक गर्व का पल है कि देवभूमि बिलासपुर की मिट्टी से नए संसद भवन का निर्माण होगा और इतिहास के पन्नों में तीनों स्थलों की यादें हमेशा संजोकर रखी जाएंगी।