| |

आदि बद्री बांध परियोजना : 21 भूस्वामियों को 3 करोड़ का मुआवजा, सरस्वती नदी का जलप्रवाह   

नाहन 03 अगस्त: पड़ोसी राज्य हरियाणा की महत्वाकांक्षी योजना “आदि बद्री बांध” की जद  में नाहन तहसील की मात्तर पंचायत की भूमि भी आ रही है। इसे ही पवित्र नदी सरस्वती का उद्गम स्थल माना गया है। बुधवार को परियोजना से प्रभावित 21 भूस्वामियों को तीन करोड़ की मुआवजा राशि वितरित की गई।   प्रभावित भूस्वामियों को 22 लाख रुपए प्रति बीघा की दर से मुआवजा राशि वितरित की गई

विधायक डॉ राजीव बिंदल ने बताया कि पंचायत का अतयंत पिछडा क्षेत्र “मातर भेडों” के नाम से जाना जाता है,जहां आदि बद्री बांध बनाकर सरस्वती नदी के प्रवाह को पुर्नजिवित करने का प्रयास राष्ट्रीय स्तर पर चला हुआ है। इस कडी में लगभग 260 करोड़ रुपए की लागत से बांध का निर्माण किया जाएगा, जिसके लिए धन राशि हरियाणा सरकार द्वारा वहन की जा रही है।  हिमाचल प्रदेश पावर कारपोरेशन द्वारा डैम का निर्माण किया जाना है।

  डाॅ बिंदल ने कहा कि बांध बनने से क्षेत्र में पर्यटकों का आवागमन होगा, कृषि भूमि उपजाऊ होगी और रोजगार के नए अवसर सृजित होंगे। बांध बनने के बाद यहां मछली पालन का कार्य भी होगा जिसके लिए सरकार ने अलग से प्रावधान किया हुआ है। उन्होंने कहा कि हिमाचल सरकार की प्राथमिकता है कि इस बांध परियोजना से किसी का भी नुकसान न हो। उन्होंने कहा कि जिन लोगों की भूमि इस बांध के लिए अधिग्रहित की गई है, उनको सरकार द्वारा सबसे पहले मुआवजा राशि वितरित करने का कार्य किया गया है।

उन्होंने आशा है की मुआवजा राशि प्राप्त करने वाले व्यक्ति इस राशि का सदुपयोग मकान बनाने या उपजाऊ भूमि खरीदने के लिए करेंगे। मुआवजा राशि प्राप्त करने वाले 21 सदस्यों में शामिल हैं मात्तर पंचायत से दीप सिंह, लाल सिंह, यशपाल सिंह, ओमी देवी, छोटो देवी, चेत राम, धनवीर, बाबु राम, संजु राम, गुर देवी, कुरमाला, काका राम, कांशी राम, रूप सिंह, गुरनाम सिंह, तेजपाल, बिल्लो, कुसुम देवी, प्रोमिला देवी, निर्मला देवी और काकी है। इस अवसर पर भाजपा जिला अध्यक्ष विनय गुप्ता, अतिरिक्त उपायुक्त मनेश कुमार यादव, जिला राजस्व अधिकारी नारायण चौहान सहित कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे।