HPPR
|

आजादी के 75 वर्षों में पहली बार अनाज पर लगाया गया GST, CPIM ने किया विरोध 

शिमला, 24 जुलाई : सीपीआईएम ने आज केंद्र सरकार द्वारा खाद्य पदार्थों व आवश्यक वस्तुओं पर जीएसटी लगाने व बढ़ती मंहगाई के विरोध में जिलाधीश कार्यालय के बाहर जोरदार प्रदर्शन किया। सीपीआईएम ने आरोप लगाया कि केंद्र की मोदी सरकार ने आजादी के 75 साल में पहली बार आटा, चावल, दाल,पनीर, दूध, दही, मांस, मछली व गुड़ आदि खाद्य वस्तुओं पर GST लगाया है।

खाद्य वस्तुओं पर GST लगाने से इनके दामों में बढोतरी होगी, जिससे आम जनता को दो वक़्त की रोटी खाना मुश्किल हो जाएगा। सीपीआईएम जिला शिमला सचिव जगत राम ने कहा कि सरकार जानबूझ कर बड़े कॉरपोरेटव उद्योगपतियों को फायदा पहुंचाने के लिए मंहगाई को बढ़ा रही है।

सरकार अमृत महोत्सव के चलते आम जनता को राहत देने के बजाय उनके अधिकारों पर हमले कर रही है। जिससे जनता का जीना मुश्किल हो गया है। रसोई गैस, डीजल, पेट्रोल, कपड़ा, शिक्षा को मंहगा किया जा रहा है। दूसरी तरफ कॉरपोरेटघरानों को करों में छूट दी जा रही है। 

कॉरपोरेटघरानों को दी जा रही छूट से राजस्व को जो घटा होता है ,उसे पूरा करने के लिये सरकार द्वारा आम जनता पर जीएसटी लगा रही है। सरकार आजादी के 75 वर्ष पूरे होने पर अमृत महोत्सव मना रही है। मोदी सरकार अमीरों के लिए  फायदे पहुंचा कर अमृत वर्षा कर रही हैं जनता के लिए तो लूट के उत्सव है।

यह मोदी सरकार की अमीरों को छूट और गरीबों की लूट करने की नीति है। सीपीआईएम सरकार से  मांग करती है कि बड़े कॉरपोरेटघरानों को टैक्सों में छूट, लोन माफी व अन्य रियायतें देना बंद करें। खाद्य वस्तुओं में लगाई गई जीएसटी को तुरंत वापिस लिया जाए।