| |

अस्पताल में मातमी चीत्कार,चार बच्चे खो चुके पिता ने हादसे में खोई आखिरी संतान 

ऊना, 02 अगस्त : गोविंद सागर झील में डूबे 7 युवकों के शव मंगलवार को पोस्टमार्टम के बाद परिजनों के सुपुर्द कर दिए गए। अस्पताल परिसर में मंगलवार को बेहद गमगीन माहौल के बीच युवकों के शवों का पोस्टमार्टमकिया गया। सुबह तड़के ही मृतकों के परिजन शव को ले जाने के लिए ऊना पहुंचे। शवों को देखते ही मृतकों के परिजन और रिश्तेदार अस्पताल परिसर में फूट-फूटकर रोते देखे गए। 

        हादसे में जान गंवाने वाले युवक विशाल कुमार के पिता राजकुमार ने बताया कि वो इससे पहले अपने चार बच्चों को खो चुके हैं। वहीं केवल मात्र विशाल कुमार ही उनके बुढ़ापे का सहारा था, लेकिन इस दुखद घटना में उनका अंतिम सहारा भी छिन गया है। भावुक हुए राजकुमार बेटे की मौत के गम में अस्पताल परिसर में यहां-वहां रोते हुए घूम रहे थे, जिन्हें देखकर हर किसी का मन विचलित हो रहा था।

  शवों को पंजाब के मोहाली जिला के बनूड़ ले जाने के लिए पंजाब प्रशासन की तरफ से 7 एंबुलेंस भेजी गई थी। दूसरी तरफ इस सनसनीखेज घटना के बाद प्रशासन द्वारा किसी भी व्यक्ति के गोविंद सागर झील में उतरने पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया है। डीसी राघव शर्मा ने इस संबंध में आदेश पारित कर दिए हैं।

वहीं पोस्टमार्टम के दौरान ही मृतक युवकों के परिजनों को प्रशासन की तरफ से तहसीलदार बंगाणा ने फौरी राहत राशि प्रदान की। मृतकों के परिजनों के साथ-साथ कस्बा बनूड़ के वार्ड 11 के पार्षद भजन लाल नंदा भी तमाम लोगों के साथ शवों को ले जाने के लिए पहुंचे थे। अस्पताल में बेहद गमगीन माहौल के बीच मातमी चीत्कार हर किसी का दिल पसीज रही थी। बनूड़ से आए तमाम लोगों में वार्ड 11 के पार्षद भजन लाल नंदा भी विशेष रूप से पहुंचे। 

गौरतलब है कि गोविंद सागर झील में हुई घटना के दौरान जान गंवाने वाले सभी युवा बनूड़ के वार्ड 11 के रहने वाले बताए गए हैं। पार्षद भजन लाल नंदा ने बताया कि उनके वार्ड के 11 युवक पीर निगाह में माथा टेकने के बाद बाबा बालक नाथ जाने के लिए गोविंद सागर झील के किनारे मोटर बोट से झील पार्क करने का प्रयास में थे। इसी दौरान कुछ युवक नाविक से बात करने के लिए गए थे। वहीं झील के किनारे खड़े युवकों में से एक युवक का पैर फिसलने से वह गोविंद सागर झील में गिरा और उसी को बचाने के चक्कर में चेन बनाकर गोविंद सागर झील में उतरे 6 अन्य युवक भी अपनी जान गंवा बैठे। 

हालांकि सोनू नाम का 8 वां युवक जो झील में उतरा था उसे साथ के अन्य युवकों ने कड़ी मशक्कत से बचा लिया। बनूड़ से ही मृतक युवकों के शव ले जाने के लिए पहुंचे उनके पड़ोसी कृष्ण कुमार ने बताया कि घटना की जानकारी मिलने के बाद से ही बनूड़ में माहौल बेहद गमगीन है। न केवल मृतकों के घरों में अपितु पूरे शहर में इस घटना के बाद से लोग मातम में हैं।   

  वहीं बनूड़ के वार्ड 11 के पार्षद भजन लाल नंदा ने बताया कि शवों का पोस्टमार्टम करवा लिया गया है। शवों को ले जाने के लिए जिला प्रशासन मोहाली के सहयोग से वह 7 एंबुलेंस लेकर हिमाचल पहुंचे हैं। एंबुलेंस के माध्यम से युवकों के शवों को उनके घर तक ले जाया जाएगा। जहां नगर परिषद और स्थानीय लोगों के सहयोग से अंतिम संस्कार की प्रक्रिया को पूरा किया जाएगा।

वहीं हादसे के बाद प्रशासन भी हरकत में आ गया है डीसी ऊना शर्मा ने गोविंद सागर झील में सात लोगों की डूबकर मृत्यु होने के हादसे की जांच के लिए अतिरिक्त दंडाधिकारी ऊना को जांच अधिकारी लगाया है। डीसी ऊना राघव शर्मा ने बताया कि एडीएम संबंधित पक्षों को जांच में शामिल करेंगे और उन्हें इसकी रिपोर्ट एक सप्ताह के भीतर देने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि भविष्य में ऐसे हादसे रोकने के लिए भी एडीएम को उपाय सुझाने को भी कहा गया है।