|

शिमला : कारगिल युद्ध में जीत दिलाने वाले वीरों व शहीदों को किया गया याद, परिवारों को सम्मान 

शिमला, 26 जुलाई : देशभर में आज के दिन कारगिल विजय दिवस मनाया जा रहा है। आज से 23 साल पहले 26 जुलाई के दिन ही भारत के वीर सैनिकों ने पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दिया और देश के लिए अपनी जान की कुर्बानी देकर पाकिस्तानी घुसपैठिए को खदेड़ दिया था। इस खास मौके पर हर साल 26 जुलाई को वीरगति को प्राप्त होने वाले वीर सपूतों को याद करते हुए ‘विजय दिवस’ मनाया जाता है। 

साल 1999 में भारत और पाकिस्तान के बीच चला युद्ध मई से जुलाई तक हुआ था। राजधानी शिमला में भी विजय दिवस के मौके पर विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में हिमाचल प्रदेश सरकार में शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज ने बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की। कार्यक्रम में कारगिल युद्ध में जीत दिलाने वाले वीरों और शहीदों के परिवारों को सम्मानित किया गया।

इस दौरान सुरेश भारद्वाज ने कहा कि हर साल इस खास दिन पर देश के वीर सपूतों को याद किया जाता है। उन्होंने कहा कि भारत के वीर सैनिकों ने आज के दिन ही पाकिस्तान के घुसपैठियों को धूल चटा दी थी। उन्होंने कहा कि यह इस बात का प्रमाण था कि भारत की ओर कोई अब आंख उठाकर नहीं देख सकता। उन्होंने कहा कि विश्व भर में यह संदेश गया कि साल 1962 वाला भारत नहीं जो आताताई शक्तियों के सामने घुटने टेक देगा।

उन्होंने कहा कि साल 1999 में कारगिल योद्धाओं ने बता दिया था कि भारत माता की रक्षा के लिए सैनिक कुछ भी कर सकते हैं। सुरेश भारद्वाज ने कहा कि देश की सेना लगातार सशक्त और मजबूत हो रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सेना को मजबूत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।