HPPR
| |

हिमाचल में होगी “पुष्पा”वाले लाल चंदन की खेती, विशेषज्ञों ने तैयार किए दर्जनों पौधे

हमीरपुर, 24 जुलाई : दक्षिण भारत में पाए जाने वाली लाल चंदन (Red sandalwood) की खेती अब हिमाचल में संभव होगी। बता दे कि “पुष्पा” फिल्म लाल चंदन की तस्करी पर केंद्रित थी। हिमाचल में अब तक सफेद चंदन ही लगाया जा रहा था, लेकिन अब उद्यानिकी एवं वानिकी महाविद्यालय नेरी के विशेषज्ञों ने संस्थान की नर्सरी में लाल चंदन की पौध उगाने में सफलता  हासिल की है। 

बेंगलुरु के लाल चंदन से बीज तैयार किए गए है। इससे दर्जनों पौधे तैयार किए गए है। विशेषज्ञों के प्रयासों से देवभूमि हिमाचल लाल चंदन से महकेगी। पौधों को नर्सरी से निकाल कर जल्द ही जमीन में रोपा जाएगा। लाल चंदन के ये पौधे समुद्र तल से 750 मीटर तक की ऊंचाई वाले इलाकों में उग सकते हैं। ऐसे में हिमाचल के निचले क्षेत्रों में इसकी खेती की संभावना प्रबल है।

सफेद चंदन के मुकाबले लाल चंदन को पैदा करने और इस्तेमाल करने का तरीका बेहद अलग है। बाजार में लाल चंदन की लकड़ी की कीमत हजारों रुपये प्रति किलो है। हिमाचल में वर्तमान में सफेद चंदन के पेड़ कांगड़ा और बिलासपुर के जंगलों में पाए जाते हैं। नेरी महाविद्यालय के विशेषज्ञों ने इससे पहले सफेद चंदन की उन्नत किस्म तैयार की थी, नेरी महाविद्यालय के इर्द-गिर्द सफेद चंदन के जंगल भी संस्थान के प्रयासों से लहलहा रहे है। 

वहीं, अब लाल चंदन की खेती को बढ़ावा देने के लिए संस्थान के विशेषज्ञों ने कदम बढ़ा दिए हैं। हिमाचल के सबसे बड़े जिला कांगड़ा के शक्तिपीठ ज्वालामुखी में भी सैकड़ों चंदन के पौधे हैं, लेकिन हमीरपुर में नर्सरी विकसित होने के बाद अब प्रदेश के अन्य भागों में भी इसके पौधे लगाए जा सकेंगे। 

नेरी स्थित अनुसंधान केंद्र में कुछ वर्ष पहले कर्नाटक से लाए चंदन के पौधों पर रिसर्च शुरू हुई थी। डॉ. वाईएस परमार औद्यानिकी एवं वानिकी महाविद्यालय नेरी के विशेषज्ञों ने अब उन्नत किस्म के पौधों की नर्सरी तैयार करने में सफलता हासिल की है। 

हमीरपुर में डॉ. वाईएस परमार अनुसंधान केंद्र नेरी के समीप खग्गल गांव में चंदन की नर्सरी भी तैयार की गई है। यह पौधे बीजों के जरिए तैयार किए जा रहे हैं। हालांकि छोटे पौधों का संरक्षण काफी कठिन है। नेरी के विशेषज्ञों के मुताबिक चंदन का पेड़ 7 से लेकर 25 वर्ष के बाद अलग-अलग कीमत पर बिकता है। सफेद चंदन के एक किलो चंदन की कीमत बाजार में चार से लेकर 15 हजार रुपये तक है। 

धार्मिक प्रयोग के अलावा दवा उद्योग में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। लाल चंदन की कीमत प्रति किलो पांच हजार रुपये मिलती है। हालांकि इसे उगाने में इतनी कठिनाई नहीं आती है। उद्यानिकी एवं वानिकी महाविद्यालय नेरी के डीन डॉ. कमल शर्मा का कहना है कि लाल चंदन को सफेद चंदन के मुताबिक अनुकूल वातावरण में उगाया जा सकता है, हालांकि दोनों को उगाने का तरीका अलग है। 

सफेद चंदन का पौधा एक सेमी पैरासिटिक प्लांट है जो दूसरे पौधों की जड़ों से पोषण प्राप्त करता है। शुरुआती के कुछ सालों में दूसरे पौधों की जड़ों से पोषण हासिल करने के बाद यह पोषण खुद लेना शुरू करता है। दोनों की कीमत अलग है। लाल चंदन की लकड़ी सफेद चंदन के मुकाबले ज्यादा सुंदर होती है। सफेद चंदन ज्यादा खुशबूदार होता है। यह एक महंगी इमारती लकड़ी है।