HPPR
| |

कालाअंब : HGPI के छात्र विवेक कुशवाहा का युवा वैज्ञानिक अवार्ड के लिए चयन

नाहन, 22 जुलाई : हिमालयन ग्रुप ऑफ  प्रोफेशनल इंस्टीट्यूशन कालाअंब में फार्मेसी के द्वितीय वर्ष के छात्र डाॅ. विवेक कुशवाहा (Dr. Vivek Kushwaha) का चयन “युवा वैज्ञानिक” अवार्ड के लिए हुआ है। ये सम्मान राष्ट्रीय शैक्षिक महाकुंभ (National Educational Conference) में डाॅ. विवेक को प्रदान किया जाएगा।

मूलतः बिहार के गोपालगंज जिला के बैकुंठपुर प्रखंड के बनोरा गांव के रहने वाले डाॅ. विवके बचपन से ही खोजी शोधकर्ता रहे हैं। स्व. त्रिभूषण कुमार प्रसाद के पुत्र डाॅ. विवेक ने देश व विदेश के सैंकड़ों गणितज्ञ समाजसेवी व उद्यमी मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में भी कई अवसर हासिल किए हैं।

राष्ट्रीय शैक्षिक महाकुंभ में शिक्षा, कला, विज्ञान, गणित व संस्कृति क्षेत्रों को शामिल किया गया है। 16 से 18 सितंबर तक ये महाकुंभ उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ में होगा। 23 राज्यों से प्रतिभाशाली विद्यार्थी व शिक्षाविद इसमें हिस्सा लेंगे।

भारत सरकार के विज्ञान प्रसार संस्था व इसरो द्वारा विज्ञान प्रदर्शनी का भी आयोजन होगा। डाॅ. विवेक का चयन रिसर्च एवं इनोवेशन के लिए हुआ है। आपको बता दें कि डाॅ. विवेक द्वारा एंटी मॉस्किटो लिक्विड व इम्यूनिटी बूस्टर को हर्बल तरीके से विकसित करने की खोज की गई थी।

इसके अलावा विवेक छोटी उम्र में उस समय चर्चा में आ गए थे, जब चार्जेबल जूतों का आविष्कार किया था। इन तमाम उपलब्धियों पर ही डाॅ. विवेक कुमार को युवा वैज्ञानिक अवार्ड से नवाजा जा रहा है। उल्लेखनीय है कि कनाडा सरकार द्वारा भी विेवेक को अंतरराष्ट्रीय सम्मान प्रदान किया गया था। मात्र 18 साल की उम्र में कनाडा के एक विश्वविद्यालय द्वारा विवेक को डॉक्टरेट की उपाधि से अलंकृत किया गया था।

एमबीएम न्यूज नेटवर्क से बातचीत करते हुए डाॅ. विवेक ने सफलता का श्रेय परिवार के अलावा शिक्षकों को दिया है। जूनियर वैज्ञानिक के नाम से विख्यात डाॅ. विवेक को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर “विश्व नीम योद्धा” अवार्ड से भी सम्मानित किया गया था। 29 नवंबर 2021 को नेपाल के लुम्बिनी ()Lumbini of Nepalमें आयोजित सभा में विवेक ने ये अवार्ड नेपाल सरकार की मंत्री सुषमा यादव व पर्यावरण मंत्रालय के तत्कालीन सचिव पशुपति नाथ कोइराला से प्राप्त किया था।