HPPR
|

हमीरपुर-टौणी देवी कस्बे में NH-03 के निर्माण में बरती गई है भेदभावपूर्ण नीति : राणा

हमीरपुर, 01 जुलाई : जनपद से गुजरने वाले एनएच 03 के निर्माण में भारी भेदभाव व अन्यायपूर्ण नीति बरती गई है। यह आरोप प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष एवं विधायक राजेंद्र राणा ने मीडिया को दिए बयान में जड़ा है।

राणा ने कहा कि टौणी देवी कस्बे से होकर गुजरने वाले एनएच 03 में टौणी देवी कस्बे में दुकानों को गिराने के लिए नोटिस जारी कर दिया है। जिसमें पीड़ित प्रभावितों को दोषपूर्ण नीति अपनाई गई है। मुआवजे के मामले में भी सरकार ने इस कस्बे के पीड़ितों व प्रभावितों से भारी भेदभाव किया है।

इस मामले को लेकर एक शिष्टमंडल मिला है जिसने अपनी शिकायतों का एक ज्ञापन उन्हें सौंपा है। उन्होंने कहा कि पीड़ित व प्रभावितों की मानें तो जिन लोगों की सियासी पहुंच थी, उन्हें मुआवजा भी ज्यादा दिया गया है। लेकिन आम व छोटे दुकानदारों को मुआवजा न के बराबर दिया गया है। 

कस्बे में गिराई जाने वाली छोटे दुकानदारों की दुकानों के मामले में भी भेदभाव का फार्मूला बरता गया है। जिन धन्ना सेठों की सियासी पूछ पहचान थी उनकी दुकानों को बचाया जा रहा है। जबकि जिनकी सियासी तौर पर पूछ पहचान नहीं थी या उनको कांग्रेस पार्टी का पक्षधर माना जाता था उन दुकानदारों की दुकानें उजाड़ कर दी जाएगी। जिसमें कोई कायदा कानून नहीं बरता गया है। कई जगह तो सड़क बनाते समय लेन का ध्यान भी नहीं रखा जाता है। 

राणा ने कहा कि सड़क बनने से किसी को इंकार नहीं है। लोग पूरी तरह सहयोग करने को राजी हैं, लेकिन अन्यायपूर्ण और भेदभावपूर्ण बरती गई नीति को लेकर टौणी देवी कस्बे के व्यापारियों में सरकार के प्रति भारी आक्रोश है। उन्होंने कहा कि वह पहले भी मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से आग्रह कर चुके हैं।

अब फिर वह आग्रह कर रहे हैं कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर स्वयं इस मामले में दखल देकर व्यापारियों से हुए भेदभाव के मामले में तत्काल जांच करवाएं अन्यथा पहले से जनता के आक्रोश के रडार पर चल रही बीजेपी को जनता के कोप का भाजन बनना पड़ेगा। 

राणा ने कहा कि ज्ञापन देने आए लोगों ने यह भी खुलासा किया है कि हमीरपुर बीजेपी के नेताओं के समर्थकों को अनावश्यक तौर पर इस मामले में लाभ पहुंचाया है जबकि बीजेपी के कई कट्टर समर्थक भी इस भेदभाव का शिकार हुए है।