| |

100 साल में गायब होगी हिमाचल के ग्लेशियरों की 87 प्रतिशत बर्फ, वैज्ञानिकों का दावा

शिमला, 30 जून : जलवायु परिवर्तन की वजह से हिमाचल प्रदेश के ग्लेशियरों से बर्फ गायब हो रही है। ये ग्लेशियर लंबे समय से आस-पास रहने वाले लोगों के लिए पानी के स्रोत रहे हैं। हाल के वर्षों में ग्लेशियरों ने कुछ फीसदी बर्फ को खो दिया है। जलवायू परिवर्तन पर गुरूवार को शिमला में आयोजिजत कार्यशाला में उपस्थित वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि अगले 100 वषों में हिमाचल प्रदेश के ग्लेशियरों की ज्यादातर बर्फ गायब हो जाएगी। 

मुख्य वक्ता प्रोफेसर अनिल कुलकर्णी, विशिष्ट वैज्ञानिक दिवेचा केन्द्र, इंडियन इंस्टीच्यूट ऑफ साइंस बेंगलुरु ने बताया कि तापमान में 2.6 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि, हिमाचल प्रदेश में सदी के अंत तक ग्लेशियर 79 प्रतिशत बर्फ खो देते हैं और तापमान में 4.1 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि हिमाचल प्रदेश में सदी के अंत तक ग्लेशियर 87 प्रतिशत बर्फ खो देते हैं। उन्होंने कहा कि वर्ष 2050 में हिमनदों से अपवाह बढ़ेगा और फिर घटना शुरु होगा। हिमकॉस्ट स्थित स्टेट जलवायु परिवर्तन केंद्र शिमला तथा देवीचा जलवायु परिवर्तन केंद्र आईआईएससी बेंगलुरु द्वारा ‘जलवायु परिवर्तन एवं पर्वतीय पारिस्थितिकी तंत्र पर नीति निर्माताओं एवं प्रशासन के उच्च अधिकारियों के लिए इस कार्यशाला का आयोजन किया गया।

अतिरिक्त मुख्य सचिव पर्यावरण, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग हिमाचल प्रदेश प्रबोध सक्सेना ने कार्यशाला का शुभारंभ करते हुए कहा कि जलवायु परिवर्तन का मुद्दा वैश्विक चिंता का विषय है तथा पर्वतीय पारिस्थितिकी तंत्र जलवायु परिवर्तन के असमय बदलाव के लिए अत्यधिक संवेदनशील है, जो पर्वतीय पर्यावरण को प्रभावित करता है।

उन्होंने कहा कि जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को दर्शाने में पर्वतों की विशेष भूमिका होती है। हिमालय पारिस्थितिकी तंत्र में लगभग 51 मीलियन लोग पहाड़ी क्षेत्रों में कृषि करते हैं और कृषि में जलवायु परिवर्तन के प्रभावों से प्रभावित होते हैं।
प्रबोध सक्सेना ने कहा कि विगत वर्षों में तेजी से होने वाले विकास में पूरे हिमालय क्षेत्र के पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी तंत्र पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है। उन्होंने कहा कि जलवायु परिवर्तन केन्द्र की संकल्पना को पूरा करने और अपनी आने वाली पीढ़ियों को एक स्वस्थ, स्थिर और टिकाऊ वातावरण प्रदान करने के लिए कार्य करें। हिमाचल प्रदेश सरकार निश्चित रूप से भविष्य की योजनाओं और नीतियों के निर्माण में इस कार्यशाला के निर्णय एवं सुझावों से लाभान्वित होंगे।

उन्होंने कहा कि हम सभी इस दिशा में एक साथ काम करेंगे ताकि इस हिमालयी राज्य में बदलती जलवायु के लिए विभिन्न अनुकूलन और शमन रणनीतियों को विकसित करने के लिए एक विश्वसनीय वैज्ञानिक डेटाबेस तैयार करेंगे।

ललित जैन, निदेशक, पर्यावरण विज्ञान प्रौद्योगिकी विभाग हिमाचल प्रदेश तथा सदस्य सचिव हिमाचल प्रदेश विज्ञान, प्रौद्योगिकी एवं पर्यावरण परिषद हिमकॉस्ट ने कहा कि आज इस दुनिया में शायद ही कोई ऐसा होगा जो जलवायु परिवर्तन से अछूता हो। इसमें विशेष तौर से कृषि पर अधिक प्रभाव पड़ रहा है, जिसके लिए हमें नई नीतियों को बनाने तथा प्रभावों में लाने की आवश्यकता है, जिससे हम जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को कम कर सके।

शिमला : होटल से उड़ाई दो लाख की नकदी और ज्वेलरी…एक कर्मचारी गायब

शिमला, 10 अगस्त : राजधानी शिमला के एक निजी होटल में चोरी का मामला सामने आया है। दो लाख रुपये की नकदी और ज्वेलरी चोरी होने से होटल मालिक के होश उड़ गए। अहम बात यह है कि चोरी की वारदात के बाद होटल का एक कर्मी गायब हो गया है।  ऐसे में होटल मालिक ने…

शिमला : तीन साल बाद सोलन से दबोचा उद्घोषित अपराधी

शिमला, 09 अगस्त : चोरी के एक मामले में अदालत द्वारा घोषित किए गए एक अपराधी को पुलिस ने तीन साल बाद गिरफ्तार किया है। दरअसल आरोपी वर्ष 2019 से फरार चल रहा था।            पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक पुलिस के पीओ सेल ने एक घोषित अपराधी जिस नाम जितेंद्र…

#HP : बाइक के आगे कुत्ता आने से बिगड़ा संतुलन, ट्रक से टकराने पर जख्मी हुआ युवक 

ऊना, 09 अगस्त : सदर थाना के तहत समूर कलां में एक बाइक अनियंत्रित होकर ट्रक से टकरा गई। हादसे में घायल बाइक चालक को क्षेत्रीय अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। वहीं पुलिस ने बाइक चालक पर लापरवाही से बाइक चलाने पर मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। जानकारी के मुताबिक मंगलवार…

आर्मी ट्रक ने स्कूटी सवार युवकों को मारी टक्कर, एक की मौत 

कांगड़ा, 08 अगस्त : हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिला में एक दर्दनाक सड़क हादसा सामने आया है। जिसमें स्कूटी सवार युवक की मौत हो गई है। मिली जानकारी के अनुसार पठानकोट-मंडी राष्ट्रीय राजमार्ग पर आर्मी ट्रक ने स्कूटी सवार युवकों को टक्कर मार दी, जिसमें से एक की मौत हो गई।  सूत्रों से मिली जानकारी…